Saturday, August 23, 2014

In Between...

In between truth and lie 
In between day and night 
In between right and wrong 
In between weak and strong 
In between defeat and victory 
in between physics and chemistry 
In between far and near  
In between enemy and dear  
In between smile and tears 
In between rich and poor 
In between dark and light  
In between day and night 
In between death and  life 
In between east and west  
In between tiredness and rest 
In between love and hate  
In between heart and head 
In between fast and slow  
In between stagnant and grow 
In between blind and sight  
In between happiness and sorrow 
In between dark and white 
In between husband and wife  
In between ours and theirs 
In between you and me 
In between success and failure 
In between i and we 
In between fact and fiction 
In between calm and wild 
In between hot and cold 
In between shyness and bold 
In between space and earth 
In between death and birth 
In between atom and universe 
In between nothing and everything 
In between what else.... 

(C) Rakesh Kumar Aug 2014

Friday, May 09, 2014

सुबह, सुबह एक ख्वाब...

सुबह, सुबह एक ख्वाब की दस्तक पर फेसबुक पर login किया तो देखा
मेरे प्रोफाइल पर बहुत सारे notifications और update आये हैं  
वही दोस्तों के नए, पुराने और घिसे, पिटे updates
कुछ के पारिवारिक चित्र और कुछ वो स्थान जहाँ घूमने गयें थे सब मित्र
कुछ धर्म और ज्ञान की बातें जो सबने अपने प्रोफाइल पर थे बाटें
मैने भी कुछ पर कमेंट डाले और कई सारों को like भी किया
कुछ को अपने प्रोफाइल पर share किया और बहुतों को reply भी किया
आँख खुली तो देखा मेरे खुद का अपना कोई भी अपडेट नहीं था
और मेरे खुद के post पर कोई भी like या reply नहीं था
मेरे पिछली रात के सारे post अभी तक like की भीख मांग रहे थे
और बेचारे मेरे profile पर पोस्ट होने के लिये अपनी किस्मत को कोस रहे थे
 
ख्वाब था शायद, ख्वाब ही होगा
पिछली रात मैं बिना अपना staus update किये ही सो गया था
और मेरे प्रोफाइल पर आज भी कोई like या कमेंट नहीं था
 

© Rakesh Kumar May 2014

 
 
 
 
 

Wednesday, April 23, 2014

Life well lived?

When the world presents us with something interesting or frustrating or curious, what we choose to do something about it. Choose to be a creator. Creating something is the perfect way to avoid wasting the precious moments that we have been given. To contribute, to create, to chip in to the world around us and to add our line to the world’s story — that is a life well lived.

Thursday, April 10, 2014

Through All of my life goals kept me busy
Path going to them were not so easy
Walking on them occasionally I felt like cry
But whole of my life I never questioned why

Many time I was sacred and confused
people around me also felt I was rude
I never paused to amend my ways
never listened to what people had to say

Its not that I cared any less anyone
I didn't like questioning what I have done
Always tried spoke what i thought and felt
It was others problem how they dealt

Though over a period I started feeling pain
Whole of my looking for green pastures and rain
There is flame still burning inside
But when i say enough to let it die
I have been playing till now cold and tired
Time is not far away when it will expired

Surely my life has not been a easy road
Though I have travelled on it most
Occasionally i had fear for road less travelled
but my heart was never contend & settled
the high and low between happiness and sorrow
Again standing up and looking for a new tomorrow

© Rakesh Kumar April 2014

Friday, April 04, 2014

घटा आयी सावन की और बादल जोर से बर्षा
फिर भी एक प्यासा पानी को तरसा

हुआ एक सबेरा और सूरज जोर का निकला
फिर भी दिलों का अँधेरा कभी बाहर ना निकला


बेच डाला अपनी सारी  जिंदगी उनकी प्यार  की  आस में
फिर भी उनकी दिल पाने  कि कीमत कम निकला


गुजर गयी ज़िन्दगी एक मन्ज़िल कि चाह में
फिर भी उनका रास्ता ज़िन्दगी से दूर निकला


©Rakesh Kumar April 2014
 

Thursday, March 13, 2014

Happy B'day to my Wife..

You are sweet naughty and funny
Life with you is sweet and sunny
High in energy and never felt dry
However ways i must try
You are my best bunny
You are my guide and navigator
You are my life supreme anchor
On this occasion I say how much you mean
Life is not he same since you have been
I wish you path to be full joy and fun
But I want you to keep your daily run
Fun and love is all you display
Fulfilled all my wish without any delay
This poem is way to say you happy B'day

© Rakesh Kumar Mar 2014

Sunday, October 13, 2013

मिला था सत्य मुझे...


ऐसा तो नहीं की सत्त्य को पाया नहीं मैने
मिला था सत्य मुझे  कई बार, बार, बार

कभी ये था मेरे ख़ामोशी में था और कभी ये मेरे झल्लाहट में
कभी ये मेरे उन आंसुओं में जो आँखों से नहीं निकल सके
तो कभी ये उन अनकहे सब्दो में भी था जिनको कोई सुन नहीं सका

मिला था सत्य मुझे कई बार, बार, बार
कभी ये उन पलों में था जिन में मैं, मैं नहीं था
और ये उस समय भी था जब सिर्फ मैं ही, मैं था कोई और नही

कभी ये था जब  मुझे सारा जग जीता हुआ लगा था
और कभी ये था जब खोने के लिए कुछ मेरे पास कुछ नहीं था
ये तो  तब भी था जब मेरे पास सिर्फ सवाल ही सवाल थे
और ये इसे तब भी मैने पाया था जब मैं अनुतरित  था

मिला था सत्य मुझे कई बार, बार, बार
इसे मैने  घने अंधेरों में भी पाया था
और उस रौशनी में भी जिसमे मैंने कुछ भी देख नहीं पाया था
ये मेरे विश्वास में भी मिला था और मेरे संदेह में भी मिला था
कभी ये मेरे पूर्णता में था तो कभी मेरे बिखरने में

मिला था सत्य मुझे कई बार, बार, बार
ये आया था मेरे यादों के आइने में
और कुछ भुलाने की कशमकश  में भी 
ये कभी बचपन की कहानियों में के रूप में था 
तो उन सपनो के रूप में भी जो हकीकत से टकरा के चूर हो गए थे
और था उन अंतरात्मा के शब्दों में जिनको मैंने अनसुना कर  दिया था
और पड़ा था मेरे उन मंजिलों के रास्तों में जिन तक मैं कभी पहुँच नहीं पाया

और भी कई रूपों में मिला था सत्य मुझे, कई बार, बार
कई बार मिला था ये मुझे बिखरे हुए कई टुकडो में
पड़ा हुआ निरीह और लाचार कोई पूछने वाला भी नहीं था इसको
और मैंने भी कई बार इसे पहचनाने से इनकार कर दिया था।

(C) Rakesh Kumar  Oct. 2013.

Thursday, August 01, 2013

The 13th Year...


This poem I wrote on completing 13 years of my professional life. Now when  I look back to those year and how they passed by professionally.

First year I was naïve
Didn’t know how to behave in world 
I felt out of a cave
Surrounded by things strange
I was trying to cope with the change

In unknown  city, in unknown place
I was scared and terrified
I was confused about the race
Slowly I learnt to be independence
So many things in life were absent
And I turned into a professional from student


Second year on and I slowly moved on
Life was full of anxiety & stress
Though I did whatever way best
There was recession and nine eleven
But I was in office till evening eleven
I missed all fun and adventure
I was working with so much anger
And I didn’t have time my family call answer

In third year I was doing better
Though many times I found myself in corner
Life was getting bigger and large
I found my self in many thing's charge
Occasionally I found battered and beaten


Forth year I was desperate
Looking for a different climate
So I moved to a different place
Started running another race
Where I experienced life's many face
I was searching life's meaning & intend
A year that defined both beginning and end


Looking for new frontier
Slowly I entered in fifth year
Things were often not what they appear
I was scared and unsure 
With new opportunity I moved to Bangalore
Found myself among different people & culture
Slowly my life began to alter
Searching new meaning to survive
my past was  slowly got archived
Surrounded with friends I was having fun
But deep inside I was looking a place to run


Year sixth started with a fix
Surely I was missing life's tricks
Only work without any perk
I felt myself  as a miserable jerk
Even though moved to Manhattan
I felt my career was broken
I was confused and felt very low
Unable to understand where to go
Life didn’t offer any excitement
All my dreams appeared at a distance


Seventh year I was low in esteem
I had suffered to fullest extreme
However I took a leap high
And found myself landed in the sky 
I joined the job I was looking for one
Found again my passion and fun
Eight and ninth went very quickly
Things were going very smoothly
Travelled to many new places 
my life was passing through beautiful phases
I Completed a decade in profession
Still hungry for many things I had not done
Meanwhile I also found a life partner 
My focus shifted from  job to her.
my destiny was to have a different trend
As all good things in life had come to end


I had to run a new race again
At the end of year ten
With so many things I was surrounded
I felt occasionally hounded
Never belonged to this new culture
Often I found my self In anger 
Among many things I was lost & found
I dozen year and journey unclear
There  was nothing in job to cheer
Last one year life tested in many ways
Felt on my shoulder too much weighs
I was only questioning this phase 
Unable to understand what it mean
And only explanation is what it seem
That this is an effect of year number thirteen

© Rakesh Kumar Aug 2013

Friday, June 28, 2013

Appraisal 2.0

You always did a great work
And your performance was good
Though I have limit whatever I could
But I am happy that here your goal be met


You have completed all your goals
And one day you will play a bigger role
Professionally you have been very strong
And I cant  find you anywhere going wrong

You have been star performer
For every problem you were after
You completed all project
And handled things well
Though I didn't like certain aspects

You were always been busy only working 
And you also lack in social networking
Company motto is collaboration
This is my area of concern and tension
My feedback for you is to take some action
You always look serious and don't ever smile
I also have problem with your look & hairstyle

My advise for you to continue doing good work 
Don't worry about hike in salary and perk
Your are walking on a right track
And I have given you a good feedback
Here your career will shine and nurture
Definitely that will help you to grow further
Company have not perform well this year
Economy future is also not very clear
We lack revenue from this project
Which going to have an affect
With you only I am sharing a secret
That I have been given limited budget
We have got limited promotion and salary hike
I know this is not what you are going to like
That what u deserve have been denied 
But there are chances of a employee cut 
You are not among those whom this policy apply...

(C) Rakesh Kumar July 2013

Fighting With My Own Demon

When I knew answer
But my words were absent
My mouth could not open
And was paralyzed without my action
Then I was fighting with my own demon....

Lost my self in despair and anger
When I could not go any further
Turned myself into useless ashes
My life was full of excuses
Unable to know where to begun
I was fighting with my own demon

When I was hopelessly crying
I thought my end was near and certain
Everywhere tears were rolling down
I appeared only as a clown
Then I was fighting my own demon

When I was scared and terrified
Afraid of my learning to apply
I failed whatever way I tried
People thought I was weaken
But my spirit was not shaken
Then I was fighting with my own demon

When I wandered lonely
In a strange new city
I had company of only a shining sun
Questioning about my fate chosen
Then I was fighting with my own demon

Those night when I could not sleep
Thinking about promises I could not keep
Trying to loosening then chain I was imprisoned
Then I was fighting with my own demon

When my ears were unable to listen
Surrounded with confused wisdom
I could not be what I could become
Then I was fighting with my own demon

When my heart was divided
I escaped to fight and run
No where I felt needed
like an abandoned son
Then I was fighting with my own demon
Many beautiful occasion I blew
When I shouted on you
words were not mine whom I spoken
Then I was fighting with my own demon

Since then till today
Dent I repay
Only I have to pray
While still I am fighting my own demon
(C) Rakesh Kumar July 2013

Saturday, March 23, 2013

एक और चाह...

कुछ और पा लेने की ये चाह क्या है 
जिंदगी में एक और नयी कमी का ये एहसास क्या है 
क्या ये कमी मन की बस एक छोटी चाह है 
या पर कटे परिंदों की एक नयी उड़ान है 
हो सकती है ये चाह किसी मंजिल की राह नयी
जिंदगी को फिर से हो मंजूर भटकना कहीं
क्या ये चाह है एक और नया निर्माण  
या एक बुझ चुके जीवन का एक नया प्राण 
क्या इसमें मुझे एक बार फिर से जलना होगा 
एक नए तरीके से खुद को बदलना होगा 
इस एक और चाह का क्या है कोई अंत
जिंदगी में कहाँ से लाऊं एक और नया संकल्प
कैसी है ये चाह, अबुझ और अथाह  
कहीं हैं इसके बुझने की कोई आस 
क्या इसे भी कह दूं घुटन, अकुलाहट और मजबूरी 
रख दूँ उन कामनाओं में जो नहीं हो सकीं कभी पूरी 
या इसको भी बहलाऊँ देकर एक नया आश्वासन 
क्या फर्क पड़ जायेगा अगर एक बार और टूट जायेगा ये मन 

© राकेश कुमार  March 2013

Monday, March 11, 2013

Happy B'day to my wife...

She is my love, she is my life
She is sweet and she is kind
She is my wife.
She is always there when I need
And even after my so many demand
She is always smiling never worried
Always calm & in self command
Sometime I feel how lucky I am
When she support and make me stand
Today is her birthday thirty
And even after years we are together
She still holds her inner strength & beauty
Today I wish her happy Birthday
She should always be happy & cheerful
That's what every moment I pray
She always rules my heart
Wish I could give her many stars
She gets all the pleasures life has store
I wish she has such birthday thousands more

© Rakesh Kumar Mar. 2013

Monday, March 04, 2013

Autobiography of a liar...

The path I choose is not by choice
The words I say is not my voice
The goals I aspire are not my desire
I am a liar, I am a liar, I am liar

The problem I share is not what I deal
I write many pages but it doesn't reveal
The way I look is not how I feel
Whatever I do it doesn't appeal
How much I cure my wound won't heal

My presence is not where I want to be
The argument I accept, I never agree
You cant imagine the weight I carry
Though I am unchained but never free

Many people to me are very near
And whom I consider very dear
Yet I walk surrounded by fears
And I keeps on cry without any tear
Thus I passed my life's years

My living is without any motive
Though I am fit, healthy and active
I don't have any thing to give
What to define my life and how I live
My living is waste never to forgive

© Rakesh Kumar March 2013

Sunday, February 03, 2013

और मत मारो मुझे...

मुझे तो सब ने मारा
किस किस ने नहीं मारा
मुझे घर के अन्दर अपनों ने मारा
घर के बहार अन्जानों ने मारा
स्कूल में दोस्तों ने मारा
होमवर्क ना करने पर टीचर ने मारा
कभी पड़ोसियों ने मारा
तो कभी सड़क पर चलते लड़कियों ने मारा
अनजानों ने मारा ही, जानने वालों ने भी मारा
कभी वजह के मारा, कभी बिना वजह के मारा
और तो और बचाने वालों तक ने मारा
किस किस ने नहीं मारा मुझे
मुझको ख़ामोशी ने मारा, शब्दों ने मारा
और कुछ मेरे अनकहे एहसाशों ने मारा
कभी बेफिक्री ने मारा तो कभी फिक्र ने मारा
और मार खाने का क्या गम करता
जब मुझको प्यार करने वालों तक ने मारा
बचपन ने मारा, जवानी ने मारा
खैर बुढ़ापे ने तो मारा ही
वक़्त ने मारा, किस्मत ने मारा,
कुछ सच ने मारा, कुछ झूठ ने मारा
कुछ जिंदगी की हकीकत ने मारा
और कुछ मेरे ही टूटे हुए सपनों ने मारा
बीते ही कल ने मारा और आने वाले कल ने भी
आंशुओं ने ही सिर्फ नहीं मारा मुझे, खुशिओं ने भी मारा 
मौत के मारने का नहीं गिला मुझे, मुझे तो जिंदगी ने ही बहुत मारा
और अक्सर खुद ही को मैने खुद से ही मारा
अब और मत मारो मुझे..

© Rakesh Kumar Jan 2013

Tuesday, January 01, 2013

नयी शुरुआत...

नए साल की नयी सुबह और भी हसीं लगती है जब हम अपने सपनों के और भी करीब होते हैं हर साल की तरह इस साल भी सपनो को हकीकत में बदलने का जूनून तो हावी होगा ही। इसी जूनून को जीने में जिंदगी के बहुत साल बीत चुके हैं और कई बार लगता है की हम इस जिंदगी की दौड़ में पीछे रह गए हैं इस नयी सुबह हमे ये सच स्वीकार कर लेना चहिये लेकिन हर बार ये जूनून हम पर हावी हो जाती है। मन कहता है की ये जूनून है तो लगता है की हम जिन्दा हैं वरना जीने में क्या रखा है। तो दोस्तों  इसी जूनून के साथ मैं सभी लोगों को नए साल की बधाइयाँ देता हूँ और उम्मीद और प्रार्थना करता हूँ ये जूनून हम सभी पर हावी रहे और हम सभी लोग दिन प्रतिदिन अपने सपनो के करीब हों। आइये हम आप और सभी इसी विश्वास के साथ  इस साल की शुरुआत करते हुये जीवन समर में कूद जाएँ।

2013: A Year Of Creation

First blog of a new day of a new year.  I am dedicating this year to create new and exciting things. This is going to be a year of creation. Using my all kind of knowledge and skills to create exciting values. This is a year of creation. I learnt and i acquired knowledge all through my life now I am going to use that to create values. By value means not just monetary or physical but at all front, all level and all kind, be it spiritual, physical, mental or financial and not just only in my life but others life also in all possible ways.  The value created this year are going to have long, lasting and sustainable impact in not only my life but others life.   I will create a happy & peaceful and comfortable life with Deepti and my family member. I will use my technical skills and knowledge for maximum value creation in different ideas that I am procrastinating since many months. Few other goals are completing my house work successfully and moving in. Professionally also i will focus knowledge for maximum value creation for myself which should be  moving desired work place and role, I will explore new and exciting places to visit, work and live. 

Thursday, December 27, 2012

बीता साल...


नया साल आने का कुछ तो है जश्न
पुराना साल बीतने की भी कुछ ख़ुशी है और कुछ गम
बीते साल का अब हम क्या दें हिसाब
जब शब्दों के रूप नहीं धर सकते हमारे जवाब 

मलाल इसका नहीं की इस साल जीने में थे बहुत गम 
ख़ुशी थी या गम बस हर वक़्त मेरी पलकें थी नम
कभी कुछ कम मिला था और कभी कुछ ज्यादा  
कुछ पल जिंदगी नमकीन थी और कुछ पल सादा
कभी कुछ उम्मीदें थी और कभी कुछ निराशा

कुछ पल हकीकत थे और कुछ पल धोखा
इतनी सालों बाद भी हमने जीना नहीं सीखा 
कोयले को हीरा समझ कर हमने तराशा 
अपनी ही नाकामी थी दूसरों को दोष क्या देता 
जब हम नहीं समझ सकते जिंदगी जीने की भाषा 

कभी हम झूठे थे और कभी हम सच्चे
एक और साल गुजरने के बाद भी हम रह गए कच्चे
कभी खुद से ही लड़ा और कभी खुद से ही हारा
इसी संघर्ष में है इस वर्ष जीने का सारांश सारा   

मन के कमरे की दीवारे आज भी कुछ सुनी सी हैं 
जाने कैसे कैसे एहसासों को जोड़ कर हमने ये पंक्तियाँ बुनी हैं 
यह साल भी गुजर गया जिंदगी को कुछ और सुलझाने में
कभी खुद को समझाने में और कभी खुद को भुलाने में
कुछ हकीकत और सपने के अंतर को जानने में
कभी खुद को यकीन दिलाने में और कभी खुद को थोडा मारने में...

© Rakesh Kumar Dec. 2012

(Not) Again...


While browsing channel
I heard about the news 
That some girl was abused
How a woman life is aped
Again a girl was raped
By a group of men
In a running bus
Destroyed a life full of promise
She was helpless and weak
Struggling crying for help
But she could not run and escaped
Now in hospital her condition is critical
Repeatedly reported in news channel
But only she know her suffering actual
There is discussion every where
And this subject is debated on air
On the street people are asking question
Why there is no any action
By the government and police
Such heinous crime against a women
How it will decrease
Nowhere a safe place for women
Our society value chain is broken
We are no longer civilized human
Every where this is concern
Till all our energy burn
After some time we all forget
Like an old song cassette
Life will go on , news will be gone
We will discuss some new subject
And remain as usual heartless and numb
Till someone finds one more new victim

© Rakesh Kumar Dec. 2012

Tuesday, December 18, 2012

डरता हूँ मैं

डरता हूँ मैं 
हर पल, हर समय डरता हूँ मैं 
अकेलेपन से डरता हूँ
और भीड़ से भी डरता हूँ  मैं 
कमरे में डरता हूँ मैं 
और  कमरे के बाहर भी डरता हूँ मैं 
आशुओं से डरता हूँ मैं 
और खुशिओं से भी डरता हूँ 
ख़ामोशी से डरता हूँ और शोर भी डरता हूँ मैं
सच से भी डरता हूँ मैं, और झूठ से भी
बीते कल से डरता हूँ मैं
और आने वाले कल से भी
बच्चे के रोने से डरता हूँ
बॉस के डाँटने डरता हूँ
बीवी के बोलने से डरता हूँ
और उसके चुप रहने से भी डरता हूँ मैं 
पता नही और भी किन किन चीजो डरता हूँ मैं 
आइने को देख कर डरता हूँ
ना देखूं तब भी डरता हूँ मैं
अपनों से डरता हूँ और अंजानो से डरता हूँ मैं 
किन किन चीजों से डरा नहीं हूँ मैं 
पता नहीं अब जिंदा भी हूँ या मरा हूँ मैं 
सांस के चलने से भी तो डरता हूँ मैं 
ज़िन्दगी जीने से भी डरता हूँ
और मरने से भी डरता हूँ मैं 
डरता हूँ मैं, पल पल, हर पल  
डरता हूँ, मगर फिर भी आगे बढ़ता हूँ मैं

(C) Rakesh Kumar Dec. 2012


Monday, October 22, 2012

गिला तो बस इतना रहा...


जिंदगी जीने में रह गया बस थोडा सा गिला
जो चाहा मैने सभी कुछ मिला
गिला तो बस इस बात का रहा की काफी देर से मिला

जिंदगी के बाज़ार में क्या खोया क्या पाया
उन तमाम चीजों का मैंने किया एक दिन हिसाब 
गिला बस इतना रहा की हर सौदे में मेरा ही नुक्सान रहा  

ऐसा तो नहीं की सिर्फ ख्वाबों में ही हुई मेरी जिंदगी बसर 
गिला बस इतना रहा की हकीकत से कभी सामना नहीं हुआ

यूँ तो मेरा गुलिस्तान हरदम रहा फूलों से भरा
गिला तो बस इतना रहा की कभी काँटों से कोई वास्ता नहीं रहा

यूँ तो मुझे लोगों से तमाम उम्र प्यार बेशुमार मिला
गिला तो इतना रहा की सिर्फ अपने आप से ही नफरत करता रहा 

यूँ तो हर मुश्किलों से मैं जीतता ही रहा 
गिला तो बस इतना रहा की जीतने के बाद भी कभी खुश नहीं रहा 

यूँ तो तुम्हे भुलाने की कोशिश में हर शाम सिर्फ नशे में ही रहा 
गिला तो बस इतना रहा की सामने फिर भी सिर्फ तुम्हारा ही चेहरा रहा  

यूँ तो इस दुनिया के लोगों में मोहब्बत की कोई कमी नहीं थी
गिला तो इस बात का रहा की जिन हाथों को मैंने पकड़ा उनमे पत्थर निकला

यूँ तो दुनिया की नजरों में हर वक़्त मेरा तन ढंका रहा   
गिला तो बस इतना रहा की दिल जख्मो पर कभी कोई पर्दा न रहा

यूँ तो उम्र लम्बी रही, तमाम वर्ष जीने में गुजारा 
गिला तो बस इतना रहा की कभी कोई पल जीने को नहीं मिला

यूँ तो मुझे पता था मंजिलों तक जाने का रास्ता 
गिला तो बस इतना रहा की उनपर चलने का कभी वक़्त नहीं मिला  

यूँ तो तमाम उम्र खुद अपने पैरों पर चला, कभी किसी का एहसान न लिया 
गिला तो इस बात का रहा की जिंदगी के आखिरी सफ़र में दुनिया का कर्जदार बन गया     


(C) Rakesh Kumar Oct 2012.

Thursday, October 18, 2012

राजनीति पर...

  
रिफार्म की नैया आई देश मैं फडीआई लायी 
फडीआई आई तो ममता मैया गुर्राई 
ममता की छमता पर उठाया मनमोहन ने सवाल
मीडिया में हाहाकार और देश में मच गया बवाल 
उठे कई सवाल पर किसी को नहीं चिंता की देश क्या हाल 

हर बात का बीजेपी केवल करे विरोध
राइ का पहाड़ बना कर रोज करे गतिरोध 
दिल में जाने कितनी नफरत और प्रतिरोध 
रोज करें डिबेट की किसने मोटा माल लुटा 
चुनाव की तयारी में बीजेपी पूरा जुटा
आडवानी के मन में फिर से लड्डू फुटा 
कंघी करें बाल में पोलिश करें जूता 
 
मुलायम और मायावती दोनों अपनी गोटी साधें 
एक तीर से दोनों कई निशाने साधे 
अखिलेश बनी मुख्यमंत्री खूब लूटे युपी 
दिल्ही में सरकार की छाती पर मुलायम ठोके खूंटी 
बीस सांसद ले के मायवती बने  मन बढंग 
बात उसकी सुन के मन हो जाए दंग  
बात बात पर गिरगिट की तरह वो बदले रंग 

सुषमा माई की भाषा जैसे बोले कसाई 
मीडिया को समझ कर जज जोर जोर से चिल्लाई 
बचाओ बचाओ देश गया डूब भ्रष्टाचार  की आंधी आई
 
अरुण जेटली का दिमाग कुतर्क की भरी पोटली
न्यूज़ चैनल पर बैठ कर सेकें चाय की केतली  
हर मसले पर उनकी वकालत वाली राय 
वो  भैंस के आगे बीन बजावे और भैंस खडी पगुराय 
 
जयललिता की शेप है सबसे जुदा 
तमिलनाडु में बैठ गायें अपनी कविता
घर से ज्यादा पड़ोस के बारे में रखे खबर
श्रीलंका  में क्या होए उस पर है उनकी नजर 

बीजेपी को भी खुद पर नहीं इख्तियार 
पीम आडवानी हो या मोदी इसमें है तकरार 
गुजरात में मोदी की भी है अपनी ललकार 
बनुगा मैं पीम जब बीजेपी की हो सरकार 

बिहार के राजा है नीतीश कुमार 
उनका दिमाग है दुधारी तलवार 
बिहार के लिए उनकी है अलग है मांग 
NDA या UPA दोनों ही नाव में उनकी टांग 

कभी थे रेल मंत्री लेकिन अब औकात के संत्री
खाया था कभी चारा लेकिन अब है बेचारा
नाम है लालू  अब खा रहे है केवल आलू  

सारे परिवार की है राजनीती मैं गतिविधि
करुना निधि की अलग है विधि 
उनके सुपुत्र है राजा और निधि 
उनके लिए नहीं कोई कुर्सी है बनी 
इसलिय उनकी बात कभी नहीं टली

अरविन्द केजरीवाल हर रोज करें सवाल 
देश की अवस्था पर उनको है मलाल
सभी लोगों को वो लगें काल सामान
राहुल, वडारा, खुर्सिद लगें इनको दोसी 
उनकी चलें तो वो लटका दें इनको फासी 
भ्रष्टाचार की नाव पर चढ़ कर लें खुद की ताजपोशी

PS:Above lines should be taken in humour sense only.
(C)Rakesh Kumar Oct. 2012
 

  

Tuesday, September 11, 2012

के बी सी...

एक शाम सोफा पर बैठ कर मैंने बहुत सोचा 
क्या चीजें हैं जिन्होनें मुझे आगे बढ़ने से रोका
बहुत ही गहरा मैने किया चिंतन और मनन 
लिस्ट बनाता हूँ कि किस-2 की करूँ मैं आज माँ बहन 
कहाँ कहा जा के निकलूं इस दिल का गुबार 
इतना पीटू की आ जाये कमीनो को बुखार
शुरुआत करता हूँ देश की दशा पर 
बरसों से दिए जा रहे इसकी सजा पर 
किसको सजा दूं कौन है  इसका दोषी
नेता पब्लिक, सिस्टम, या है इसकी बुरी किस्मत
ये सब तो कहता है मेरे पड़ोस का मोची 
साब, कुछ भी हो अपनी तो चल रही है रोजी रोटी 
देश तो जायेगा ही गड्ढे में 
कोयला और आयरन माइनस जो सब खोद रहे हैं 
क्यों न हम भी इसमें कूद कर देश को बचाए 
कुछ नहीं तो दो चार बाल्टी ही चुरा कर लायें 
देश के बारे में तो सभी जगह हो रही है चिंता और बहस 
मेरे सोचने से नहीं पड़ेगा इसमें कोई नया रस 
ये ही सोच कर ध्यान लगाया अपने नौकरी पर 
क्या करें किधेर जाये और कितना कमाए 
दो चार हजार  की नौकरी से क्या मिला 
मेरी तनख्वाह से तो बीवी को भी है गिला 
सोच रहा हूँ कैसे लायें इसमें बदलाव 
कुछ ऐसा करें जिससे जल जाये मेरी किस्मत का अलाव 
क्यों न के बी सी पर जा कर खेले एक  दाव
देश भर में होंगे मेरे चर्चे
सारी उम्र के पुरे हो जायेंगे मेरे खर्चे
साथ में बिग बी से मिलना होगा एक बोनस
और जिंदगी से दूर होगी बॉस की खुन्नस  
यही सोच कर मैने फ़ोन की तरफ हाथ बढ़ाया 
और के बी सी का नंबर घुमाया 
उधर से आई एक मीठी आवाज 
के बी सी की फ़ोन लाइन बंद है आज
तो भैया ये प्लान भी हो गया फेल
किस्मत की टूटी पटरी पर भला कैसे चलती अपनी रेल
सोचा क्यों न बच्चन सर जी को अपना दुखड़ा सुनाये
ट्वीटर पर जाकर ये पोस्ट चिपकाये
शायद उनको मुझ पर कुछ दया आ जाये
के बी सी में मेरा भी कुछ जुगाड़ फिट हो जाये

(C) Rakesh Kumar Sep. 2012

Saturday, September 08, 2012

Living...

An eye is blind and cannot see
If it doesn't blink on a person misery

An ear is deaf and cant hear
If it cannot listen a silence of many years

A heart is dead and not alive
If it has no courage to fight

A hand is useless and broken
If it has not change its destiny written

A leg is broken and has no power
If it has not crossed its doubt's border

A lips is ugly and has no beauty
If it has not spoken the words with integrity

A mind is empty and has no wisdom
If it is chained in unscientific ritual and custom

A soul is sold and considered killed
If it has lost hope to rise and rebuild

A living is only a disgrace and blemish
If it is has no dream to nourish

(C) Rakesh Kumar Sept. 2012

Thursday, August 30, 2012

Feelings...

In evening amidst a silence storm
Many feelings I tries to explore
Till now whom I refuse to conform
Riding on their emotional experience
I wander to a distant lonely shore
Where my mind is always absent
They pushes me in corner so extreme
Where reality appears as a dream
I swing between low and high
Sometimes lonely and sad
Perhaps my tears have been dried
Or when I fly high in sky
Without any boundaries, untied
From a side when I feel enlightened
Where things look beautiful and brightened
To the other side when I ask why
And I hear a silence with no reply
It surround me with unseen fears
I feel weak and defeated
As I am fighting since many years
When sum of life seems zero
I want to run but nowhere to go
The directions are hazy and not clear
I roam from past to future
Like a cursed creature
Juggling between good and bad
I become glad to numb and sad
How to define its functions
When I am unable to find reasons
It makes me fall and rise
I behave as a man unwise
Some times I refuse to believe
On things I see through my eyes
As I walk between truth and lies
From life to death
On each passing breath
Where none of me survives
I live and feel alive
With so many bruises and wound
I don't know where I have arrived
I search and look around
But nothing yet I have found
 
(C) Rakesh Kumar Aug 2012

Monday, August 06, 2012

चलो इसी बहने तो हम जाने गए
क्या हुआ जो बरसो पुराने दोस्ताने गए

क्या हुआ जो आज उन्होंने ने खंजर उठा लिया
इस बहाने कम से कम शब्दों के वीराने तो गए

मेरी बारात नहीं पहुंची उसकी गली तक तो क्या हुआ
ये क्या कम है जो उसकी गली में मेरे अफसाने गए

हमारी सांस रुक गयी तो भी कोई देखने न आया
वो दो शब्द कम क्या बोले सब लोग उनको मनाने गए

भुला दिया था कब का उन्होंने मुझे एक लम्हा समझ कर
पर मेरे जिंदगी के कई बर्ष उनको भुलाने मैं गए

आज भी दरवाजे पर वो माएं राह देखती होगी
बरसो पहले जिनके जवान बेटे शहर में कमाने गए

महंगे सपने देखने की कोशिश तो की थी हमने
पर तमाम जिंदगी मेरी उसकी कीमत चुकाने में गए

ज़िन्दगी की दौड़ मैं थक कर जब मैंने बंद कर ली आँखें
फिर कभी नहीं उठा जब लोग हमे जगाने गए

और क्यों नहीं लिख पाया इसका क्या जवाब दू
बस जोर की लगी थी और हम पाखाने गए

(C) Rakesh Kumar

Thursday, July 12, 2012

Life undefined

What we have got to give
While life goes on and we live
Darkness in our heart
Red lips with smile
Is it a worthwhile
Living inside us a cunning owl
Polluting our heart and soul
Once It was innocent and pure
But now its obscure
Abandon like a orphan
Without any cure
Fighting an empty illusion
With sorrows and delusion
Now helpless and aged
With so many prejudices
Living as animal caged
Holding many things dear
With so many unknown fear
Life, its purpose remains unclear
Many answers unknown
Full of millions people
We surrounded but alone
Many things occurred
Unable to see actual
We got only blurred vision
A life full of lies
With millions of cries
Only for things left behind..

(C) Rakesh kumar